रक्षाबंधन: भाई-बहन के प्यार की एक अनमोल बंधन, रक्षाबंधन कब है, जाने इसके बारे में पूरे विस्तार से!

Join whatsapp group Join Now
Join Telegram group Join Now

रक्षाबंधन कब हैं रक्षाबंधन 30 अगस्त 2023 को हैं। रक्षाबंधन भाई बहन का त्योहार हैं इसके महत्व को जानिए इसके पीछे के इतिहास को जानिए और समझे की आज ये अपनी वास्तविक्ता से कितना परे होता दिखाई दे रहा हैं। जानिए रक्षाबंधन कब है 2023 मे बिस्तार से

रक्षाबंधन का त्योहार क्यों मनाया जाता हैं, और रक्षाबंधन कब हैं।

रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त

रक्षाबंधन एक भाई – बहनों का त्योहार हैं जो भाई और बहनों के लिए काफी अनमोल त्योहार हैं। इस दिन बहनें भाई के तिलक करके उसके राखी बांधकर लंबी उम्र की कामना करती हैं इस साल 30 अगस्त 2023 को राखी मनाई जाएगी।

रक्षाबंधन कब मनाया जाता हैं।

रक्षाबंधन श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाता हैं। यह सावन के महीने का अंतिम दिन होता हैं बहन अपने भाई को रक्षा सूत्र बांध कर उसकी लंबी उम्र की प्रार्थना करती हैं भाई उसकी रक्षा का वचन देता हैं यह परम्परा वर्षों से निभाई जा रही हैं ।

रक्षाबंधन की कहानी।

देवताओ और दानवों के बीच युद्ध चल रहा था जिसमें दानवों की ताकत देवताओ से कई गुना अधिक थी देवता हर बाजी हारते दिखाई पड़ रहे थे देवराज इन्द्र के चेहरे पर भी संकट के बादल उमड़ पड़े थे। उनकी ऐसी स्थिति देख उनकी पत्नी इंद्राणी भयभीत एंव चिंतित थी इंद्राणी धर्मपरायण नारी थी उन्होंने अपने पति की रक्षा हेतु घनघोर तप किया और उस तप से एक रक्षा सूत्र उत्पन किया।

रक्षाबंधन कितने तारीख को है

यह पढ़े- बेसन के अनोखे फायदे, जिससे आपका चेहरा चमकने लगेगा।

जिसे इंद्राणी ने इन्द्र की दाहिनी कलाई पर बाँधा वह दिन श्रवण की पूर्णिमा का दिन था। और उस दिन देवताओ की जीत हुई और इन्द्र सही सलामत स्वर्गलोक आये तब एक रक्षासूत्र पत्नी ने अपने पति को बाँधा था लेकिन आगे जाकर यह प्रथा भाई बहन के रिश्ते के बीच बिभाई जानें लगी जो आज रक्षाबंधन के रूप में मनाई जाती हैं।

राजपूताना इतिहास में महारानी कर्णावती ने अपने राज्य की रक्षा हेतु मुराल बादशाह हुमायु को रक्षा सूत्र बाँधा था। और इसके बदले में हुमायु ने बहादुर शाहा जफ्फर से चितोड़ की रक्षा की थी।

2023 में रक्षाबंधन किस दिन को मनाया जाएगा।

रक्षाबंधन का त्योहार हर साल सावन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता हैं शस्त्रों में ऐसी मान्यता हैं की राखी कभी भी भद्रा कल में नहीं बांधनी चाहिए पंचांग के अनुसार इस बार रक्षाबंधन पर भद्रा होने के कारण रक्षाबंधन का पर्व माननें को लेकर लोगों में संशय की स्थिति बनी हुई हैं आइए जानते हैं साल 2023 में रक्षाबंधन कब मनाया जाएगा भद्रा कब से कब तक रहेगी विधि और राखी बांधने की शुभ मुहूर्त क्या हैं।

रक्षाबंधन कब है 2023 मे शस्त्रों के अनुसार इस बार भद्रा 30 अगस्त को प्रातः काल 10:58 मिनट से शुरू होकर रात्रि 9:01 मिनट तक रहेगी 30 अगस्त को शाम 5:30 से मिनट लेकर 6:31 मिनट तक भद्रा पुंछ रहेगी शस्त्रों के अनुसार भद्रा के समय राखी बाँधना शुभ नहीं होता हैं ऐसे में इस साल रक्षाबंधन का पर्व भद्रा समाप्त होने के बाद 30 और 31 अगस्त दो दिन मनाया जाएगा।

रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त पूजा विधि।

रक्षाबंधन कब है 2023

यह पढ़े- हरियाली तीज क्यों और कैसे मनाई जाती हैं।

रक्षाबंधन सावन पूर्णिमा को मनाया जाता हैं इस बार सावन पूर्णिमा के दिन भद्रा रहेगी ऐसे मे शुभ मुहूर्त देखकर राखी का त्योहार मानना चाहिए राखी के दिन सुबह स्नान के बाद पूजा की थाली सजाय जिसमें राखी के साथ रोरी, चंदन ,अक्षत ,मिष्ठान और पुष्प रखे। अब इस थाली में घी का दीपक जलाए और इस थाली को पूजा स्थान पर रख दें।

सबसे पहले सभी देवी देवताओ का स्मरण कर धूप दीप जलाकर पूजा करें और फिर भाई को आसन पर बैठाकर उनका तिलक करे अब उनकी दाहिनी कलाई पर राखी बाँधे और आरती करे इसके बाद भाई का मुंह मीठा कर उनकी दीर्घायु की कामना करें।

F&Q

1. रक्षाबंधन कब है? 2023

रक्षाबंधन 2023 मे 30 अगस्त को हैं।

2. रक्षाबंधन कितने तारिक को है?

रक्षाबंधन 30 अगस्त को हैं।

3. रक्षाबंधन की शुरुआत कब हुई थी।

रक्षाबंधन की शुरुआत लगभग 6 हजार साल पहले हुई थी

4. राखीबंधन की शुरुआत किसने की।

राखी की शुरुआत रानी कर्णावती ने की थी

Join whatsapp group Join Now
Join Telegram group Join Now

Leave a Comment