23 अगस्त को चंद्रयान-3 की सफल लैंडिंग के साथ भारत ने रचा इतिहास। प्रधानमंत्री मोदी ने घोषित किया कि इस महत्वपूर्ण दिन को 'राष्ट्रीय अंतरिक्ष दिवस' के रूप में मनाया जाएगा।

भारत का ऐतिहासिक चंद्र अंतरिक्ष मिशन

प्रधानमंत्री मोदी ने इसरो के वैज्ञानिकों की मेहनत की सराहना की और उन्हें युवा पीढ़ी के मनोबल को बढ़ाने का श्रेय दिया।

मोदी जी की प्रशंसा

चंद्रयान-3 की सफलता के मौके पर पीएम मोदी ने विक्रम लैंडर की जगह को 'शिवशक्ति' के नाम से यादगार बनाया।

चंद्रयान-3 की उपलक्ष्य जगह का नाम

पीएम मोदी ने चंद्रयान-2 के पड़े पदचिह्न को 'तिरंगा पॉइंट' के नाम से जाना जाएगा, जिससे भारतीय अंतरिक्ष मिशन की महत्वपूर्ण कड़ी को याद रहेगी।

चंद्रयान-2 का यादगार पड़ाव

पीएम मोदी ने भारतीय चंद्रमा मिशन की सफलता में इसरो की महिला वैज्ञानिकों को भी श्रेय दिया, जिन्होंने अपने प्रतिबद्धता से इस मिशन को साकार किया।

महिला वैज्ञानिकों का योगदान

पीएम मोदी ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर इसरो की 40-दिवसीय यात्रा में शामिल होकर वैज्ञानिकों से मुलाकात की और उनके संघर्षों का समर्थन किया।

मोदी जी का भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के साथ संवाद

इसरो की टीम ने लाइव अपडेट के माध्यम से देशवासियों को चंद्रयान-3 मिशन की प्रगति को जानने का मौका दिया, जिससे हम सभी उनकी मेहनत और संघर्ष का गर्मीशिल साक्षात्कार प्राप्त कर सकते हैं।

चंद्रयान-3 की लाइव अपडेट

पीएम मोदी का दक्षिण अफ्रीका से वापसी के बाद उन्होंने इसरो के वैज्ञानिकों से मिलकर चंद्रमा पर विक्रम लैंडर की ऐतिहासिक लैंडिंग को देखा।

मोदी जी के इसरो दौरे की महत्वपूर्ण जानकारी

इसरो के अध्यक्ष एस सोमनाथ ने पीएम मोदी का हार्दिक स्वागत किया और उनके साथ चंद्र अंतरिक्ष मिशन के सफलता पर ख़ुशी और गर्व का संवाद साझा किया।

इसरो के अध्यक्ष का स्वागत

23 अगस्त को भारत ने चंद्रयान-3 की सफल लैंडिंग के साथ नया इतिहास रचा, जिसने दुनियाभर में भारतीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी की महत्वपूर्णता को दिखाया।

इतिहास में एक नया पन्ना